demo testing
Notification
All Result

Current GK

TestIndia Provide you all current GK

रवि शास्‍त्री फिर बने भारतीय क्रिकेट टीम के कोच

रवि शास्‍त्री (Ravi Shastri) को फिर से भारतीय क्रिकेट टीम (Indian Cricket Team ) को कोच चुना गया है. कपिल देव, अंशुमन गायकवाड़ और शांता रंगास्वामी की तीन सदस्यीय क्रिकेट सलाहकार समिति (CAC) ने रवि शास्त्री को मुख्य कोच पद पर बरकरार रखने का फैसला किया. सीएसी ने शुक्रवार को प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में यह जानकारी दी. शास्त्री के साथ कोच पद की दावेदारी में न्यूजीलैंड के पूर्व कोच माइक हेसन, श्रीलंका के पूर्व कोच टॉम मूडी, वेस्टइंडीज और अफगानिस्तान के पूर्व कोच फिल सिमंस, भारत के पूर्व फील्डिंग कोच रॉबिन सिंह और भारत के पूर्व मैनेजर लालचंद राजपूत भी थे. वर्ल्ड कप-2019 के सेमीफाइनल में टीम इंडिया की अप्रत्याशित हार के बाद लगा था कि रवि शास्त्री का कोच पद पर दोबारा चुना जाना मुश्किल है, लेकिन लंबी कवायद के बाद फिर उन्हीं के नाम पर क्रिकेट सलाहकार समिति (CAC) ने मुहर लगा दी. इसके साथ ही 57 साल के रवि शास्त्री एक बार फिर भारतीय टीम के मुख्य कोच पद पर काबिज हो गए. भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) ने मुंबई में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर उनके नाम की घोषणा की. वह टी-20 वर्ल्ड कप-2021 तक टीम इंडिया के हेड कोच बने रहेंगे.

भारतीय स्टार पहलवान बजरंग पूनिया को मिलेगा खेल रत्न अवॉर्ड

भारतीय स्टार पहलवान बजरंग पूनिया को इस साल 29 अगस्त को खेल दिवस पर राजीव गांधी खेल रत्न अवॉर्ड से सम्मानित किया जाएगा। यह अवॉर्ड खेल के क्षेत्र में दिया जाने वाला भारत का सर्वोच्च सम्मान है। इस मामले से जुड़े एक सूत्र ने आईएएनएस को यह जानकारी दी। सूत्र ने कहा कि बजरंग को कुश्ती के क्षेत्र में लगातार अच्छा करने के लिए इस साल अवॉर्ड दिया जाएगा। पूनिया ने हाल ही में तबिलिसी ग्रां प्री में गोल्ड मेडल पदक अपने नाम किया था। वह ईरान के पेइमान बिबयानी को मात देकर 65 किलोग्राम भारवर्ग में सोने का तमगा जीतने में सफल रहे थे। अपने भारवर्ग में मौजूदा नंबर-1 खिलाड़ी बजरंग ने चीन में आयोजित एशियाई चैंपियनशिप में जीत हासिल कर एशियाई महाद्वीप में अपनी बादशाहत साबित की थी। बजरंग ने पिछले साल एशियाई खेलों और राष्ट्रमंडल खेलों में भी स्वर्ण पदक जीता था। भारतीय कुश्ती महासंघ (डब्ल्यूएफआई) ने इस प्रतिष्ठित अवॉर्ड के लिए बजरंग पूनिया के साथ ही महिला पहलवान विनेश फोगाट के नामों की सिफारिश की थी।

INSA की पहली महिला अध्यक्ष चंद्रिमा शाह

चंद्रिमा शाह भारतीय राष्ट्रीय विज्ञान अकादमी की पहली महिला अध्यक्ष बन गयी हैं। उनका कार्यकाल जनवरी 2020 से शुरू होगा। चंद्रिमा शाह पूर्व में नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ इम्यूनोलॉजी, दिल्ली की निदेशक थी।

मोटर स्पोर्ट्स में विश्व कप खिताब जीतने वाली पहली भारतीय महिला बनी- ऐश्वर्या पिस्सी

हाल ही में, ऐश्वर्या पिस्सी मोटर स्पोर्ट्स में विश्व कप खिताब जीतने वाली पहली भारतीय महिला बन गई हैं। उन्होंने हंगरी में वार्पा लोता में फेडरेशन इंटरनेशनल द मोटरसाइकिल महिला चैम्पियनशिप का फाइनल जीता। वे जूनियर वर्ग में दूसरे स्थान पर रही। ऐश्वर्या पिस्सी दुबई में पहला दौर जीतने के बाद पुर्तगाल में तीसरा, स्पेन में पांचवां और हंगरी में चौथा स्थान हासिल किया। वे इससे 65 अंकों के साथ शीर्ष पर रही। एश्वर्या ने चैंपियनशिप के अंतिम दौर में बाद एफआईएम विश्व कप की ट्रॉफी पर कब्जा किया।

राजस्थान सरकार से पटवारी के 3835 पदों पर मंजूरी

राजस्थान के मुख्यमंत्री ने 13 जुलाई को घोषणा करके बताया की जल्द ही 3835 पटवारी के पदों पर भर्ती की जायेगी ""हमारी सरकार पटवारी के 3835 पदों पर भर्ती करेगी। इन रिक्त पदों पर भर्ती के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। गौरतलब है कि पूर्ववर्ती सरकार ने पटवारियों के 2 हजार पदों पर भर्ती के लिए मंजूरी दी थी लेकिन इनमें से एक भी पद पर उस समय भर्ती नहीं की गई।"" Ashok Gehlot, CM Rajasthan हाल में rsmssb के द्वारा जारी सूचना के अनुसार rsmssb पटवारी भर्ती ऑनलाइन फॉर्म जल्द ही भरवाये जायेंगे |rsmssb patwari bharti के लिए ऑनलाइन फॉर्म अप्लाई करना चाहते है वे सभी उम्मीदवारो को सूचित किया जाता है की वे भर्ती संबधित सम्पूर्ण जानकरी के लिए rsmssb की अधिकारिक वेबसाइट www.rsmssb.rajasthan.gov.in पर रेगुलर विजिट कर latest rajasthan patwari bharti online form जानकारी प्राप्त कर सकते है | राजस्थान पटवारी भर्ती 2019 राजस्व मंडल ने पटवारियों के रिक्त 3835 पदों की भर्ती के लिए राजस्थान अधीनस्थ सेवा चयन भर्ती बोर्ड को एक पत्र प्रेषित कर सूचना भेजी है |राजस्थान पटवारी भर्ती 2019 के आवेदन इसी माह मांगकर भर्ती प्रक्रिया को शुरू कर दी जायेगी | RSMSSB राजस्थान पटवारी भर्ती 2019 की भर्ती प्रक्रिया जल्द ही शुरू होने वाली है | राजस्व मंडल ने पटवारियों के 3 हज़ार 835 पदों को डिस्ट्रिक्ट वाइज रिक्त पदों की लिस्ट जारी कर राजस्थान अधीनस्थ सेवा चयन भर्ती बोर्ड को भेज दी गई है | Rajasthan Patwari Bharti 2019 District Wise Vacancy लिस्ट टीएसपी और नॉन टीएसपी क्षेत्र के अनुसार है जो की निम्नानुसार निचे दी जा रही है | Ajmer 135 Post Alwar 64 Post Baran 68 Post Barmer 223 Post Bharatpur 135 Post Bhilwara 93 Post Bikaner 80 Post Bundi 54 Post Chittorgarh 53 Post Churu 61 Post Dausa 14 Post Dhaulpur 60 Post Hanumangarh 69 Post Jaipur 79 Post Jaisalmer 26 Post Jalore 62 Post Jhalawar 64 Post Jhunjhunu 23 Post Jodhpur 93 Post Karauli 143 Post Kota 39 Post Nagour 97 Post Pali 85 Post Rajsamand 135 Post Shri Ganganagar 79 Post Sikar 79 Post Sirohi Non-TSP Area 114 Post Sawai Madhopur 111 Post Tonk 75 Post Udaipur Non TSP Area 81 Post Non-TSP Area Total Post More Then 3500+ Post

मैं तो एक IAS अफ़सर बनना चाहता हूं।

हर इंसान का जीवन में कुछ न कुछ लक्ष्य होता है। कोई डाक्टर, तो कोई वकील, कोई टीचर तो कोई कुछ। परंतु मैं तो एक IAS अफ़सर बनना चाहता हूं। जो देश की सबसे कठिन परिक्षाओं में से एक है। मैं कठिन नहीं मानता किसी चीज़ को क्योंकि कठिन कुछ नहीं होता सब समझने का खेल है हमारी बुद्धि का। IAS बनना यानि अपने कंधे पर देश का भार लेना जो सबको नसीब नहीं होता। वास्तव में आईएएस अफसर देश को चलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। हांलाकि इस पथ पर चलने में कठिनाई तो होगी परंतु यदि आप कुछ नीतियों को सही तरीके से अपनाते हैं तो जरुर पास कर जाऐंगे। जैसे- इकोलॉजी, एंवायरमेंट, आर्ट और कल्चर पर करना होगा ध्यान कई किताबों को पढ़ने से अच्छा है एक ऐसी क्व़ॉलिटी की किताब पढ़ें जिससे आपके बेसिक कॉंन्सेप्ट क्लियर हो जाएं। टॉपिक्स की पढ़ाई के लिए जरूरी है कि आप उससे जुड़े नोट्स बनाएं। मॉक टेस्ट से तैयारी कर आप अपनी स्पीड तो बढ़ा ही सकते हैं बल्कि इसकी मदद से सवालों को जल्दी हल करने की समझ भी बढ़ती है। नियमित रूप से पढ़ें अखबार। एनसीईआरटी की किताबों को जरूर पढ़ें। अगर आप किसी विषय को रट रहे हैं तो आप कुछ समय बाद भूल जाएंगे इसलिए।घटनाओं के विश्लेषण करने की आदत डालें। इससे आप उसे हमेशा याद रखेंगें. इसके लिए आप इंटरनेट की मदद ले सकते हैं।

कश्मीर नहीं लद्दाख का हिस्सा होगा करगिल,अनुच्छेद 370 के प्रावधान को खत्म

करगिल जिला नियंत्रण रेखा के नजदीक स्थित है और पाक प्रशासित गिलगिट बाल्टिस्तान से घिरा हुआ है. करगिल जिला 1999 में भारत-पाकिस्तान के बीच हुई लड़ाई का पर्याय बन गया था. 1999 में करगिल युद्ध के दौरान पाकिस्तानी घुसपैठियों ने करगिल की चोटियों पर कब्जा कर लिया था. इस कब्जे को पाकिस्तान से मुक्त कराने के लिए भारत को भीषण रण करना पड़ा था. इस चोटी को पाकिस्तान के कब्जे से मुक्त कराने के बाद यहां पर तिरंगा फहराते भारतीय सैनिकों की तस्वीर करगिल की लड़ाई की पहचान बन गई थी. जम्मू-कश्मीर राज्य पुनर्गठन विधेयक 2019 के कानून बनने के बाद जम्मू-कश्मीर का मानचित्र पूरा बदल जाएगा. लद्दाख के केंद्र शासित प्रदेश बनने के बाद सामरिक दृष्टि से अहम करगिल जिला केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर का हिस्सा नहीं रह जाएगा. जम्मू-कश्मीर राज्य पुनर्गठन विधेयक के प्रावधानों के मुताबिक करगिल और लेह जिले को मिलाकर लद्दाख को केंद्र शासित प्रदेश बनाया जाएगा. जम्मू-कश्मीर राज्य के बाकी बचे जिलों को मिलाकर जम्मू-कश्मीर केंद्र शासित राज्य बनाया जाएगा. रिपोर्ट के मुताबिक जम्मू-कश्मीर राज्य में कुल 22 जिले थे. जम्मू-कश्मीर के लोकसभा के 6 मौजूदा सांसदों को कार्यकाल में कोई बदलाव नहीं आएगा. वे अपना कार्यकाल पूरा होने तक काम करते रहेंगे. नए जम्मू-कश्मीर केंद्र शासित प्रदेश में 5 सांसद होंगे और लद्दाख के लिए एक सांसद होगा.

Electrical Engineering/iti करने के बाद Career in India

इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग उन ब्रान्चेस में से है जिसमे संभावनाएं बहुत अधिक है। 12वीं पास करने के बाद जो बच्चे इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में दाखिला लेते हैं तो उनके मन में कई सारे सपने होते है और बड़ी जॉब की चाहत होती है। यह फील्ड है ही ऐसा की इसमें पैसा खूब है। लेकिन कई बार देखने को मिलता है की ऐसा नहीं होता है।  इलेक्ट्रिकल की कंपनी में नौकरी अगर आपने एक साल जमकर किसी इलेक्ट्रिकल की कंपनी में काम कर लिया तो समझ लीजिए की आपकी लाइफ सेट हो जाती है बहुत सारे कंपनीज है जो की इलेक्ट्रिकल उपकरण बनाती है जैसे की एसी, फ्रिज, पंखा, कूलर आदि और वहां हमेशा से ही इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग के फ्रेश स्टूडेंट्स की जरूरत होती है। आप वहां अप्लाई कर सकते है और इंटरव्यू के बाद आप जॉब पा सकते हैं।  खुद का बिजनस या दुकान करें आप थोडा सा इन्वेस्टमेंट करके छोटे स्तर पर खुद ही दुकान खोल सकते हैं और इसके बाद जब आपका काम बढ़े और पैसे आने लगे तो आप उसे इलेक्ट्रिकल शोरूम में बदल सकते है। अगर आप नौकरी नहीं करना चाहते है तो आप खुद का बिजनस कर लें। जैसे की आप खुद की इलेक्ट्रिकल की दुकान खोल लें। अगर आप चीजे सही कर लेते हैं, उन्हें रिपेयर करने में आपका मन लगता है तो ये आपके लिए बेहतर विकल्प होगा। ऐसा नहीं है की आप किसी कंपनी में केवल मैनुफैक्चरिंग में ही जाएँ या फिर आपको फील्ड में काम करना जरूरी है। बल्कि इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग के बाद आप कई सारे कंपनियों के एक साथ एनालिस्ट के तौर पर काम कर सकते हैं। कंपनी कोई भी वो वहां पर इलेक्ट्रिकल उपकरण तो लगेगे ही और ऐसे में आप उन्हें एनालिस्ट के तौर पर सेवाएँ दे सकते हैं और इसके एवज में महीने की मोटी रकम आपको वो देते है।  सरकारी विभाग में नौकरी के विकल्प हर कोई सरकारी नौकरी चाहता हैं और इस फील्ड से आप सरकारी नौकरी में जा सकते हैं क्योकि इसे कोर ब्रांच कहा जाता है। जब आपने इंजीनियरिंग पास कर हैं तो उसके बाद अलग अलग सरकारी पदों में आवेदन कर सकते है। हर एक विभाग को इलेक्ट्रिकल इंजिनियर की जरूरत होती है, इसके अलावा इलेक्ट्रिसिटी डिपार्टमेंट एक अलग ही विभाग है तो भर्तियाँ खुलने पर आप यहाँ अप्लाई कर सकते हैं और आपको बेहतर करियर आप्शन मिल सकता है। यहाँ सैलरी भी बहुत अधिक होती है और काम भी सीमित होता है।  दूसरे फील्ड में भी आवेदन ऐसा नहीं है की इस ब्रांच से इंजीनियरिंग करने के बाद आप केवल इसी फील्ड में रह सकते हैं बल्कि आप दूसरे क्षेत्रो में भी जा सकते है। आप IAS, RAS , IES , JE की तैयारी कर सकते हैं, कई सारी सरकारी नौकरियां आती है उनमे आप जा सकते है और उनके लिए मेहनत कर सकते हैं।  IMPORTANT POINT- सबसे जरूरी बात हैं की आपको उस विषय की जानकारी हो यानी की आपको इलेक्ट्रिकल उपकरणों, उसमे आने वाली समस्यायों, उसे कैसे दूर किया जाएँ, वो खराब ना हो इसके लिए क्या किया जा सकता हैं, आदि बातों की जानकारी होनी चहिये। अगर आप इनकी जानकारी है तो आप बेहतर कर सकते हैं।

7864
Total Students
300+
Total Packages
450+
Total Exams
11000+
Total Questions